[psl_page_header page_id=13]

Blog

Onlinexams.in News 17/March/2017

  • भारतीय मूल की इन्द्राणी दास ने जीता अमेरिका का सर्वोच्च विज्ञान पुरस्कार


    भारतीय मूल की किशोरी इन्द्राणी दास ने 16 मार्च 2017 को अमेरिका का सर्वोच्च विज्ञान पुरस्कार “रीजेनेरन साइंस टैलेंट सर्च” ख़िताब जीता. यह पुरस्कार प्रत्येक वर्ष विज्ञान के क्षेत्र में शोध करने पर दिया जाता है.वर्ष 2017 के लिए दिमागी चोट और बीमारी के इलाज से जुड़े शोध हेतु दिए गये ‘रीजेनेरन साइंस टैलेंट सर्च’ में भारतीय मूल की अमेरिकी किशोरी इंद्राणी दास को इस पुरस्कार हेतु चयनित किया गया.उन्हें पुरस्कार स्वरुप 2.50 लाख डॉलर (लगभग 1.64 करोड़ रुपये) का प्रथम पुरस्कार मिला. इसके अतिरिक्त भारतीय मूल के ही अर्जुन रमानी और अर्चना वर्मा को क्रमश: तीसरा और पांचवां स्थान प्राप्त हुआ. उन्हें पुरस्कार स्वरुप 1.50 लाख डॉलर (लगभग 98 लाख रुपये) तथा 90,000 डॉलर (लगभग 59 लाख रुपये) प्राप्त हुए.इस प्रतियोगिता में भारतीय मूल के ही प्रतीक नायडू तथा वृंदा मदन को क्रमश: सातवां और नौवां स्थान मिला. प्रतियोगिता की अंतिम सूची में स्थान प्राप्त करने वाले 40 बच्चों में आठ भारतीय मूल के बच्चे शामिल थे. इस प्रतियोगिता में 1,700 से अधिक बच्चों ने भाग लिया था.

  • मनहार वालजी राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग के अध्यक्ष बने


    मनहार वालजी ने 16 मार्च 2017 को राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग का अध्यक्ष पदभार संभाला. वालजी के अतिरिक्त मंजू दिलेर तथा दलीप कल्लू हैथिबैड ने भी बतौर सदस्य पदभार संभाला.
    राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग-
    • राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी अधिनियम, 1993 के नियम के प्रावधानों के अनुसार राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की स्थापना 1993 में की गयी.
    • राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग सफाई कर्मचारियों के कल्याण संबंधी विशेष कार्यक्रमों, सफाई कर्मचारियों के लिए वर्तमान कल्याण कार्यक्रमों के अध्ययन और मूल्यांकन तथा विशेष शिकायतों के मामलों की जांच करने के लिए सिफारिश करता है.
    • रोजगार के रूप में मैला ढोने पर निषेध तथा मैला ढोने वाले लोंगो के पुनर्वास अधिनियम के अनुसार राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग को अधिनियम के कार्यान्वयन की निगरानी करने का कार्य सौंपा गया है.
    • इस आयोग के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष तथा अन्य सदस्य तीन वर्षों के लिए पद सँभालते हैं.
    • अधिनियम को कारगर रूप से लागू करने के लिए केंद्र तथा राज्य सरकारों को सलाह देने तथा अधिनियम के प्रावधानों के उल्लंघन संबंधी शिकायतों के बारे में सलाह देने का काम भी आयोग को सौंपा गया है.

  • केंद्र सरकार ने निर्यात से जुड़ी ढांचागत सुविधाओं के विकास हेतु 600 करोड़ रुपये की नई योजना शुरू की


    केंद्र सरकार ने निर्यात को बढ़ावा देने के इरादे से राज्यों में निर्यात संबंधित बुनियादी ढांचे के विकास के लिये 600 करोड़ रुपये की नई योजना व्यापार ढांचागत सुविधा योजना (टीआईईएस) 15 मार्च 2017 को शुरू की.इसकी शुरूआत वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण ने की. निर्यात के लिये व्यापार ढांचागत सुविधा योजना बुनियादी ढांचे में कमी को दूर करने तथा व्यापार गतिविधियों से जुड़ी इकाइयों को ग्राहक और आपूर्तिकर्ता से संपर्क उपलब्ध कराने पर जोर देती है.योजना का क्रियान्वयन 1 अप्रैल 2017 से होगा. इसके लिये तीन साल का बजटीय आबंटन 600 करोड़ रुपये होगा. इसमें सालाना व्यय 200 करोड़ रुपये होगा. योजना के लिये परियोजना को मंजूरी तथा उसपर निगरानी के लिए अधिकार प्राप्त अंतर-मंत्रालयी समिति गठित की गयी है.इसकी अध्यक्षता वाणिज्य सचिव करेंगे. वाणिज्य सचिव रीता तेवतिया ने बताया कि निर्यातकों को एक बड़ी लागत ढांचागत सुविधाओं की कमी के कारण उठानी पड़ती है.चाहे वह बंदरगाहों परीक्षण केंद्र हो या रखरखाव सुविधाओं या शीत गृह श्रृंखला की कमी हो. उन्होंने कहा कि टीआईईएस इस कमी को दूर करने पर ध्यान देगी.

  • बिभू प्रसाद कानूनगो आरबीआई के डिप्टी गवर्नर नियुक्त


    ओडिशा के बिभू प्रसाद कनूनगो को 14 मार्च 2017 को भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) का डिप्टी गवर्नर नियुक्त किया गया. वे अप्रैल 2017 से कार्यभार संभालेंगे.उनकी नियुक्ति को मंत्रिमंडल नियुक्ति समिति द्वारा स्वीकृति प्रदान की गयी.
    कानूनगो ओडिशा के ऐसे दूसरे व्यक्ति हैं जिन्हें आरबीआई के डिप्टी गवर्नर पद पर नियुक्त किया गया. इससे पूर्व ओडिशा के हारून राशिद खान को इस पद पर नियुक्त किया गया था जिनका कार्यकाल जुलाई 2016 में समाप्त हो गया.
    बिभू प्रसाद कानूनगो
    • मार्च 2016 में कानूनगो को आरबीआई के कार्यकारी निदेशक पद पर नियुक्त किया गया.
    • वह भारतीय रिजर्व बैंक के कार्यकारी निदेशक के रूप में पदभार ग्रहण करने से पहले विदेशी मुद्रा विभाग के प्रभारी थे.
    • इससे पहले उन्होंने जयपुर और कोलकाता में आरबीआई के क्षेत्रीय निदेशक के रूप में सेवा की थी.
    • उन्होंने मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के लिए बैंकिंग मध्यस्थ के रूप में भी काम किया.
    • उन्होंने 1979 में एक परिवीक्षाधीन अधिकारी के रूप में ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स से अपने करियर की शुरुआत की थी. बाद में 1980 में वे आरबीआई में अधिकारी के रूप में शामिल हुए.
    • कनूनगो इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकर्स के प्रमाणित एसोसिएट हैं. उन्होंने उत्कल विश्वविद्यालय से लॉ (एलएलबी) डिग्री भी प्राप्त की.

  • करन अवतार सिंह पंजाब के मुख्य सचिव नियुक्त


    वरिष्ठ आईएएस अधिकारी करन अवतार सिंह को 16 मार्च 2017 को पंजाब के मुख्य सचिव नियुक्त किये गये. पंजाब के मुख्यमंत्री के रूप में कैप्टन अमरिंदर सिंह के शपथ ग्रहण समारोह के कुछ ही घंटो बाद उनकी नियुक्ति हुई.
    करन अवतार सिंह ने सर्वेश कौशल का स्थान लिया है जिन्हें महात्मा गांधी राज्य जन प्रशासन संस्थान का विशेष मुख्य सचिव सह महानिदेशक नियुक्त किया गया. करन अवतार सिंह को कार्मिक, सामान्य प्रशासन एवं सतर्कता और निवेश संवर्धन विभाग के प्रधान सचिव का अतिरिक्त प्रभार भी दिया गया है.
    अन्य नियुक्तियाँ:
    • करन अवतार सिंह के अतिरिक्त राज्य के 11 अन्य वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों का भी तबादला किया गया तथा उन्हें नयी जिम्मेदारियां दी गयी.
    • आईएएस हिम्मत सिंह शेरगिल को बागवानी विभाग का विशेष मुख्य सचिव, अतिरिक्त प्रभार वन और वन्य जीव विभाग के विशेष प्रिंसिपल सेक्रेटरी का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है.