[psl_page_header page_id=13]

Blog

Onlinexams.in News 18/March/2017

  • ज्वाला गुट्टा भारतीय खेल प्राधिकरण की सदस्य नियुक्त


    भारत की युगल विशेषज्ञ बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा को मार्च 2017 के दुसरे सप्ताह में भारतीय खेल प्राधिकरण (एसएआई) की संचालन संस्था का सदस्य नियुक्त किया गया. ज्वाला की पहली बैठक 28 मार्च 2017 को नई दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में होनी है.
    ज्वाला गुट्टा के बारे में:
    • ज्वाला गुट्टा का जन्म 7 सितंबर 1983 को वर्धा, महाराष्ट्र में हुआ था.
    • वे एक भारतीय बैडमिंटन खिलाडी हैं.
    • ज्वाला गुट्टा की प्रारंभिक पढ़ाई हैदराबाद से हुई.
    • वे वर्ष 2000 में जूनियर नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप जीती.
    • ज्वाला गुट्टा ने वर्ष 2002 से वर्ष 2008 तक लगातार सात बार महिलाओं के नेशनल युगल प्रतियोगिता में जीत हासिल की.
    • उन्होंने वर्ष 2010 कॉमनवेल्थ गेम्स में अपने पार्टनर अश्विनी पोनप्पा के साथ भारत के लिए स्वर्ण पदक जीता.
    • उन्हें वर्ष 2011 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

  • न्यूज़ीलैंड में वानगानोई नदी को इंसान का दर्जा मिला


    न्यूज़ीलैंड में वानगानोई नदी को इंसान का दर्जा मिला. न्यूज़ीलैंड की संसद में इस देश की वानगानोई नदी को एक इंसान के समान अधिकार दिए हैं.न्यूज़ीलैंड की संसद ने 15 मार्च 2017 को एक विधेयक को मंज़ूरी दी जिसके मुताबिक वानगानोई नदी को औपचारिक रूप से एक जीवित इंसान के अधिकार दे दिए गए.माओरी जाति के द्वारा पूजी जाने वाली वानगानोई नदी को इस देश की संसद ने सभी मानवीय अधिकारों वाले एक इंसान के रूप में स्वीकार किया है. विश्व में किसी भी नदी को इंसान मानने की यह पहली घटना है.न्यूज़ीलैंड के अटार्नी जनरल क्रिस फ़िनलिसन ने इस बारे में कहा कि इस नदी को अपनी विशेष पहचान, संबंधित अधिकार तथा एक नागरिक जैसे दायित्व एवं ज़िम्मेदारियां प्रदान की गई हैं.हालांकि न्यूज़ीलैंड के इस क़ानून का मतलब यह है कि दो वकील क़ानूनी मामलों में इस नदी के हितों का रक्षा कर सकते हैं. इनमें से एक वकील का निर्धारण सरकार की ओर से होगा तथा दूसरे का निर्धारण माओरी जाति के लोग करेंगे.नदी के लिए नागरिक जैसे शब्द का इस्तेमाल अभूतपूर्व है. यह न्यूज़ीलैंड की तीसरी सबसे बड़ी नदी है तथा माओरी जाति के समूह इसे पूज्य मानते हैं.न्यूज़ीलैंड की संसद ने वानगानोई नदी को ऐसी परिस्तिथि में एक इंसान के अधिकार प्रदान किए हैं जब विश्व के विभिन्न देशों विशेष कर पश्चिमी और अरब देशों में लाखों-करोड़ों लोगों के अधिकारों का हनन किया जाता है.माओरी समुदाय बीते करीब 160 से अधिक वर्ष से अपनी इस नदी को मान्यता दिलाने के लिए संघर्ष कर रहा था.

  • हवाई के फेडरल जज ने ट्रंप के यात्रा प्रतिबंध सम्बन्धी नए कार्यकारी आदेश पर रोका लगाई


    हवाई के होनोलुलू में फेडरल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट के जज डेरिक वाटसन ने 14 मार्च 2017 को एक राष्ट्रव्यापी आदेश जारी कर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा मुस्लिम बहुसंख्यक छह राष्ट्रों पर लगाए गए नए यात्रा प्रतिबंध पर रोक लगा दी. यह रोक प्रतिबंध के प्रभावी होने के कुछ घंटे पहले से ही लागू कर दी गई.अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के निर्देश के अनुसार यमन, ईरान, सीरिया, सूडान, सोमालिया औऱ लीबिया समेत छह मुस्लिम बाहुल्य राष्ट्रों के निवासियों के अमेरिका में प्रवेश पर पाबंदी लगा दी गयी. इन राष्ट्रों के निवासियों हेतु 90 दिनों और शरणार्थियों हेतु 120 दिनों का प्रतिबंध लगाया गया.नए आदेश के तहत जिसमें प्रतिबंधित राष्ट्रों की सूची से ईरान को हटा दिया गया. इसकी आलोचना की गई.

  • त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद की शपथ ग्रहण की


    पूर्व में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रचारक रहे त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 18 मार्च 2017 को तीन बजे उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद की शपथ ग्रहण की. वह राज्य के नौवें मुख्यमंत्री बने. मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ 9 अन्य मंत्रियों को राज्यपाल ने शपथ ग्रहण कराई.इनमे सतपाल महाराज, प्रकाश पंत, हरक सिंह रावत, मदन कौशिक, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष यशपाल आर्य, अरविंद पांडे, सुबोध उनियाल, रेखा आर्य, श्रीनगर से पहली बार विधायक बने धन सिंह रावत सम्मिलित हैं.

  • इंडियन ऑयल ने लुब्रियाजोल कॉरपोरेशन अमेरिका को लुब्रियाजोल इंडिया में 24% इक्विटी देने की मंजूरी प्रदान की


    आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति (सीसीईए) ने नई दिल्ली में 15 मार्च 2017 को इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड (इंडियनऑयल) ने मेसर्स लुब्रियाजोल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (एलआईपीएल) की 24 फीसदी इक्विटी को लुब्रियाजोल कॉरपोरेशन, अमेरिका (एलसी) को बेचने की मंजूरी प्रदान की. सीसीईए की बैठक की अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने की.
    इस बिक्री से लुब्रियाजोल कॉरपोरेशन के साथ इंडियनऑयल का दीर्घकालिक संपर्क स्थापित होगा.
    इंडियन ऑयल कार्पोरेशन लिमिटेड के बारे में –
    • इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (इंडियन ऑयल) भारत का सबसे बड़ा व्यावसायिक उद्यम है. वर्ष 2015-16 हेतु इसका बिक्री टर्नओवर 3,99,601 करोड़ रु. (61 बिलियन अमेरिकी डॉलर) और लाभ 10,399 करोड़ रु. (1,589 मिलियन अमेरिकी डॉलर) था.
    • भारत की प्रमुख राष्ट्रीय तेल कंपनी होने के कारण वर्तमान में 33,000 सशक्त कार्यबल के साथ इंडियन ऑयल भारत की ऊर्जा मांगों को आधी सदी से भी अधिक समय से पूरा करता आ रहा है.
    • इसके व्यावसायिक हितों में पूरा हाइड्रोकार्बन वैल्यू– चेन जिसमें– रिफाइनिंग, पाइपलाइन परिवहन, पेट्रोलियम उत्पादों का विपणन, कच्चे तेल एवं गैस की खोज और उत्पादन एवं प्राकृतिक गैस एवं पेट्रोकेमिकल्स का विपणन शामिल है.
    • भारत के पेट्रोलियम उत्पाद बाजार में कंपनी का लगभग आधे हिस्से पर एकाधिकार है और राष्ट्रीय रिफाइनिंग क्षमता में इसकी हिस्सेदारी 35 फीसदी है.